अहसास रिश्‍तों के बनने बिगड़ने का !!!!

एक चटका यहाँ भी


35 साल की उमर 15 किलो वजन ये है हमारे पात्र मजबूती राम जो कि नेतागिरी में अव्वल बनना चाहते है .
चुनाव प्रचार में लगातार नौकरी बिजली पानी देने के नाम पर चुन भी लिए गए ! अब मजबूती राम नेतामजबूती राम हो गए

उनके घर बधाई देने वालो की भीड़ लगी रहती थी लोग आते और सोचते कि आज सायद नेताजी कुछ देने का आश्वाशन दे पर नही मजबूतीराम मजबूती से चुप चाप अपना लूट घसोट करते रहते थे किसी का एक पाई का काम नही किए

एक दिन स्टार टी वी वाले गए इंटरव्यू लेने आते ही मजबूतीराम के गले में हार पहना कर बोले :

सर हम स्टार से आए है :

मजबूती राम बोले स्टार से आए हो कौनो दुसरे ग्रह के हो का भैया ?


नही सर हम स्टार टी वी से आए है वो क्या है आपका इंटरव्यू लेना है इसके लिए

मजबूती राम घबडाते हुए बोले भैया अन्दर का व्यू क्यों लेना है आज तो मै अंडरवीयर भी नही पहना हु

न्यूज़ वाला मजबूतीराम को समझाया नही सर आप समझे नही हम आपकी फोटो टी वी में निकालेगे आप
फेमस हो जाओगे .

मजबूती राम बोले : उससे क्या होगा ?

स्टार टी वी : नही नही सर फेमस मतलब आप को लोग जानने लगेगे

मजबूतीराम : तो उससे क्या होगा अरे अगर मुझे लोगो को जनाना होगा तो वैसे ही लोग जान जायेगे बस एक दो घोटाला करना होगा बस!

स्टार टी वी : सर दोनों में फर्क है !

मजबूतीराम : फेमस होकर क्या करेगे दूध वाला फ्री में दूध देने लगेगा क्या ?

या सरकार फ्री में खाना देगा क्या होगा फेमस होकर बताओ ?

मुझे पता है मेरा इंटरव्यू लेकर तुम पैसा कमाओगे मुझे क्या मिलेगा चलो २० हजार दो तो इंटरव्यू दू

किसी तरह १५ हजार में , मजबूतीराम इंटरव्यू देने के लिए तैयार हो गए इंटरव्यू हुआ भी है जो कि आप कल 5 बजे के पोस्ट में पढेगे !

तब तक के लिए नमस्कार !!!


***कमेन्ट देने के लिए यहाँ क्लिक करे ***

प्रशंशक बने

1 comments:

  1. Udan Tashtari on August 25, 2009 at 4:20 PM

    इन्तजार करते हैं कि १५००० में कैसा इंटरव्यू दिया.. :)

     

हमारे ब्लाग गुरुदेव

हमारे ब्लाग गुरुदेव
श्री गुरुवे नमः

Blog Archive

Followers

About Me

My photo
साँस लेते हुए भी डरता हूँ! ये न समझें कि आह करता हूँ! बहर-ए-हस्ती में हूँ मिसाल-ए-हुबाब! मिट ही जाता हूँ जब उभरता हूँ! इतनी आज़ादी भी ग़नीमत है! साँस लेता हूँ बात करता हूँ! शेख़ साहब खुदा से डरते हो! मैं तो अंग्रेज़ों ही से डरता हूँ! आप क्या पूछते हैं मेरा मिज़ाज! शुक्र अल्लाह का है मरता हूँ! ये बड़ा ऐब मुझ में है 'yaro'! दिल में जो आए कह गुज़रता हूँ!
विजेट आपके ब्लॉग पर