अहसास रिश्‍तों के बनने बिगड़ने का !!!!

एक चटका यहाँ भी

by Mishra Pankaj | 3:19 AM in | comments (11)

नमस्कार , बोदूराम के साथ पंकज मिश्रा आपके साथ !
बोदूराम थाणे में पहुच जाते है रपट लिखवाने ,,,,,,थानेदार साहब हैरान परेशान बोदूराम से पूछते है .....हां भाई बोदूराम बताओ के तकलीफ आन पडी तुम्हे ?
बोदूराम - का बताये हुजुर आज पाच दिन से लगातार धमकी मिल रही है कि काट देगे .....
थानेदार - कौन है जो तुम्हे इस तरह की धमकी दे रहा है ?
बोदूराम - थानेदार साहब अगर आप कारवाई करो तो बताये नहीं तो बताने से कुछ फ़ायदा नहीं है !
थानेदार - अरे बोदूराम तुम बताओ तो सही हम तुरत फुरत कारवाई करेगे ...
बोदूराम - साहब धमकी बी एस एन एल वालो की तरफ से मिल रहे है.. कह रहे है कि बिल जमा कर दो नहीं तो काट देगे ..कनेक्शन !!!!!
************(((((((((((((((((((**************)))))))))))))))***********
बोदूराम - पाच हजार की जरुरत है मना मत करना , जैसे ही पैसा वापस आयेगा सबसे पहले तुम्हारा कर्जा उतारूगा !!
और वो मिन्नत कर रहे थे ए टी एम् मशीन से !!!!!!!!!!!!!!


जल्द ही कई सारे बोदूराम के किस्से के साथ वापस आउगा !! फिलहाल अभी तो नौकरी पानी में जुटा हु!

Followers

About Me

My photo
साँस लेते हुए भी डरता हूँ! ये न समझें कि आह करता हूँ! बहर-ए-हस्ती में हूँ मिसाल-ए-हुबाब! मिट ही जाता हूँ जब उभरता हूँ! इतनी आज़ादी भी ग़नीमत है! साँस लेता हूँ बात करता हूँ! शेख़ साहब खुदा से डरते हो! मैं तो अंग्रेज़ों ही से डरता हूँ! आप क्या पूछते हैं मेरा मिज़ाज! शुक्र अल्लाह का है मरता हूँ! ये बड़ा ऐब मुझ में है 'yaro'! दिल में जो आए कह गुज़रता हूँ!
विजेट आपके ब्लॉग पर