अहसास रिश्‍तों के बनने बिगड़ने का !!!!

एक चटका यहाँ भी

क्या कोई है जो गिन कर बता दे कि कितने बच्चे है इस फोटो में ?
गिनने के लिए फोटो पर डबल क्लिक करे !

12 comments:

  1. डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक on January 30, 2010 at 12:39 PM

    इनको गिनने में तो अपना बोदूराम ही सक्षम है!

     
  2. हिमांशु । Himanshu on January 30, 2010 at 1:59 PM

    क्यों सिर चकराये, ऐसा काम दे रहे हैं ।
    परेशानी भरा है यह काम !

     
  3. पी.सी.गोदियाल on January 30, 2010 at 3:54 PM

    १४५ , बच्चे गिनने के लिए जो एक दो और तीन क्षमता की अलग-अलग प्लेटफोर्म बने है उनको गिनिये !

     
  4. दिगम्बर नासवा on January 30, 2010 at 3:55 PM

    बोदू राम या ताओ या समीरनंद बता सकते हैं .... सब के पास दिव्य दृष्टि है .........

     
  5. डॉ. मनोज मिश्र on January 30, 2010 at 10:08 PM

    नासवा जी नें सही कहा है.

     
  6. Mithilesh dubey on January 30, 2010 at 10:42 PM

    166 hai dobara mat puchna .

     
  7. अम्बरीश अम्बुज on January 31, 2010 at 9:39 AM

    maan gaye aapko godial sir..

     
  8. Babli on February 1, 2010 at 11:14 AM

    बहुत ही कठिन प्रश्न पूछ लिया आपने! पर मैं गोदियाल जी की बातों से सहमत हूँ!

     
  9. Babli on March 2, 2010 at 12:03 PM

    आपको और आपके परिवार को होली की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें !

     
  10. Suman on March 11, 2010 at 7:22 AM

    nice

     
  11. पी.सी.गोदियाल on March 22, 2010 at 10:10 AM

    ये भोंदू राम भी बिगड़ता जा रहा है दिन प्रतिदिन !

     
  12. अरुणेश मिश्र on April 22, 2010 at 10:50 AM

    रोचक ।

     

हमारे ब्लाग गुरुदेव

हमारे ब्लाग गुरुदेव
श्री गुरुवे नमः

Followers

About Me

My photo
साँस लेते हुए भी डरता हूँ! ये न समझें कि आह करता हूँ! बहर-ए-हस्ती में हूँ मिसाल-ए-हुबाब! मिट ही जाता हूँ जब उभरता हूँ! इतनी आज़ादी भी ग़नीमत है! साँस लेता हूँ बात करता हूँ! शेख़ साहब खुदा से डरते हो! मैं तो अंग्रेज़ों ही से डरता हूँ! आप क्या पूछते हैं मेरा मिज़ाज! शुक्र अल्लाह का है मरता हूँ! ये बड़ा ऐब मुझ में है 'yaro'! दिल में जो आए कह गुज़रता हूँ!
विजेट आपके ब्लॉग पर